Breaking News

इनोकिड्स के नन्हे मुन्नों ने मानसून की बारिश का लिया मज़ा

INNOKIDS of Innocent Hearts School,

इनोकिड्स के नन्हे मुन्नों ने मानसून की बारिश का लिया मज़ा

Punjab E News :- : इनोसैंट हाट्र्स के इनोकिड्स (जी.एम.टी., लोहारां, सी.जे.आर. तथा रॉयल वल्र्ड) के नन्हे मुन्नों ने मानसून की बारिश में भीग कर खूब मस्ती की तथा मानसून वोनांजा गतिविधियों में भाग लिया। विद्यार्थी तरह-तरह के परिधानों में सज कर घर से आए। कोई पानी की बूंद, इन्द्रधनुष, फूल बनकर आया और कोई बादल का रूप बना कर आया। वर्षा में भीगते हुए बच्चे बहुत खुश नज़र आ रहे थे। अध्यापिकाओं ने बच्चों को सावन महीने में खाने वाली खास वस्तुओं जैसे घेवर, माल-पूड़े, खीर, जलेबी, पकौड़े आदि के बारे में जानकारी दी। बच्चों को यह भी बताया गया कि वर्षा में अधिक नहीं भीगना चाहिए क्योंकि इससे स्वास्थ्य खराब होता है। उन्हें यह भी समझाया गया कि वर्षा ऋतु में कौन-कौन सी सब्जियां व फल खाने चाहिए। बच्चों ने वायदा किया कि वे अपने स्वास्थ्य का ध्यान रखेंगे तथा अभिभावकों को भी कहेंगे कि वे घर के आस-पास पानी न खड़ा होनें दे क्योंकि खड़े पानी से मच्छर पैदा होते हैं। इस दौरान जी.एम.टी. इनोकिड्स इंचार्ज गुरमीत कौर, लोहारां इंचार्ज अलका अरोड़ा, सी.जे.आर. इंचार्ज नीतिका कपूर तथा रॉयल वल्र्ड मे इनोकिड्स इंचार्ज पूजा राणा भी वहां उपस्थित थी। उन्होंने बताया कि विद्यालय में इस तरह की गतिविधियां करवाने का उद्देश्य बच्चों को मस्ती के साथ-साथ स्वास्थ्य का ध्यान रखना भी सिखाना है।


Aug 2 2019 5:18PM
INNOKIDS of Innocent Hearts School,
Source: Punjab E News

Crime News

Leave a comment





कपूरथला के राहत कार्यों में 5 ऐंबूलैंसों, 20 मैडीकल टीमों और 16 नावों को किया शामिल, दो दिनों में 1600 राशन पैकटों सहित 20 लीटर वाले पानी के कैन बांटे --- अरूण जेटली एक उदार ,धर्मनिरपेक्ष भारत तथा पंजाबियत के प्रतीक थेः सरदार बादल --- अरूण जेटली एक उदार ,धर्मनिरपेक्ष भारत तथा पंजाबियत के प्रतीक थेः सरदार बादल --- कैप्टन अमरिन्दर सिंह द्वारा केंद्र सरकार से बाढ़ प्रभावित राज्यों की सूची में पंजाब को भी शामिल करने की मांग --- पंजाब सरकार द्वारा बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों के किसानों को आगामी रबी सीजन के लिए गेहूँ के उच्च उपज वाले बीज करवाए जाएंगे मुफ़्त मुहैया --- कैप्टन अमरिन्दर सिंह द्वारा अरुण जेतली के निधन पर दुख व्यक्त