Breaking News

संदिग्ध बीज पार्सलों को लेकर केंद्र ने राज्यों और इंडस्ट्री को किया आगाह, कहा-इसे भूल से भी न बोएं

New Virus via seed

संदिग्ध बीज पार्सलों को लेकर केंद्र ने राज्यों और इंडस्ट्री को किया आगाह, कहा-इसे भूल से भी न बोएं

केंद्र ने राज्य सरकारों के साथ-साथ बीज उद्योग और अनुसंधान निकायों को अज्ञात स्रोत से भारत में आने वाले ‘संदिग्ध या अवांछित बीज पार्सल’ (mystery seed parcels) के बारे में सतर्क किया है, जो देश की जैव विविधता के लिए खतरा हो सकते हैं. कृषि मंत्रालय (Agriculture Ministry) ने कहा है कि इस संबंध में एक निर्देश जारी किया गया है. पिछले कुछ महीनों में दुनिया भर में हजारों संदिग्ध बीज खेप को भेजे जाने की सूचना प्राप्त हुई है. इसे कहा है, 'अज्ञात स्रोतों से भ्रामक पैकेज के साथ अनचाहे / संदिग्ध बीज पार्सल' का खतरा अमेरिका, कनाडा, ब्रिटेन, न्यूजीलैंड, जापान और कुछ यूरोपीय देशों में पाया गया है.

मंत्रालय ने यह भी उल्लेख किया कि अमेरिकी कृषि विभाग (USDA) ने इसे बीज बिक्री के फर्जी आंकड़े दिखाने का घोटाला (ब्रशिंग स्कैम) और कृषि तस्करी करार दिया है. USDA ने यह भी बताया है कि अनचाहे बीज पार्सल में विदेशी आक्रामक प्रजाति के बीज या रोगजनकों या रोग को पेश करने का प्रयास हो सकता है, जो पर्यावरण, कृषि पारिस्थितिकी तंत्र और राष्ट्रीय सुरक्षा के लिए गंभीर खतरा पैदा कर सकते हैं.

देश  की जैव विविधता के लिए खतरा

कृषि मंत्रालय ने कहा कि अनचाही या रहस्यमय सीड पार्सल भारत की जैव विविधता के लिए खतरा हो सकता है. इसने कहा कि इसलिए, सभी राज्यों के कृषि विभाग, राज्य कृषि विश्वविद्यालयों, बीज संघों, राज्य बीज प्रमाणन एजेंसियों, बीज निगमों, भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद के साथ साथ उनके अपने फसल आधारित शोध संस्थानों को ‘संदिग्ध बीज पार्सल’ के बारे में सतर्क रहने का निर्देश दिया गया है.

निर्देश पर टिप्पणी करते हुए फेडरेशन ऑफ सीड इंडस्ट्री ऑफ इंडिया के महानिदेशक राम कौंडिन्य ने एक बयान में कहा, अभी यह केवल बिना ऑर्डर के अनधिकृत स्रोतों से आने वाले बीजों के माध्यम से पौधों के रोगों के संभावित प्रसार के लिए एक चेतावनी है. इसे बीज आतंकवाद बताना अभी जायज नहीं होगा. बीज कौन सी बीमारियां ला सकती हैं, इसकी एक सीमा है. लेकिन फिर भी, यह एक खतरा है. उन्होंने कहा कि ये बीज एक आक्रामक प्रजाति या खरपतवार हो सकते हैं, जो भारतीय वातावरण में स्थापित होने पर देशी प्रजातियों का मुकाबला या उनका विस्थापन कर सकते हैं.


Aug 9 2020 1:12PM
New Virus via seed
Source:

Crime News

Leave a comment





मुख्यमंत्री ने कृषि बिलों पर राष्ट्रपति की मंज़ूरी को दुर्भाग्यपूर्ण और दुखदायक बताया --- भाजपा के पीछे लगकर मनमोहन सिंह की निंदा करने के लिए बादल परिवार माफी माँगे-सुखजिन्दर सिंह रंधावा --- सुखबीर सिंह बादल ने खेती बिलों से बचाने के लिए एकजुट होकर लड़ाई लड़ने की कि अपील, यह बिल देश के लिए तबाही वाला हो सकता है --- भारत भूषण आशु ने राज्य के आढ़तियों से अपील कि वह खऱीदी गई फ़सल की अदायगी एम.एस.पी.1888 रुपए प्रति क्विंटल के हिसाब से साथ-के-साथ किसानों के खातों में ट्रांस्फर करते रहें --- कंगना ने भाई और बहन के साथ शेयर की फोटो, लिखा- मेरी मां का हमसे पहले एक बच्चा हुआ था --- सुखबीर बादल अकाली दल की अध्यक्षता से इस्तीफ़ा दे-तृप्त बाजवा