बिना इंश्योरेंस आखिर क्यों भाग रही है सरकारी बसें, क्या कहता है कानून? जाने मामला 

punjab roadways

बिना इंश्योरेंस आखिर क्यों भाग रही है सरकारी बसें, क्या कहता है कानून? जाने मामला 
Punjab E News  :   मोटर व्हीकल एक्ट के मुताबिक सड़क पर चलने वाली हर गाड़ी की इंश्योरेंस होनी बहुत ही जरूरी है| इसके बिना कोई भी गाड़ी सड़क पर नहीं चल सकती पर अगर बात भी गए पंजाब रोडवेज की बसों की तो उनकी 220 बसों में से सिर्फ 12 वोल्वो बसों की ही इंश्योरेंस है और जालंधर रोडवेज के जनरल मैनेजर का कहना है कि पंजाब सरकार ने एक फंड जनरेट करके सरकारी बसों को इंश्योरेंस की छूट दे रखी है| 
        जालंधर का अंतरराष्ट्रीय बस अड्डा यहां से जालंधर डिपो एक और दो की  220 बस से रोजाना अपने रूट पर निकलती हैं और सवारियों को उनके गंतव्य तक पहुंचती है| जालंधर रोडवेज डिपो के प्रधान का कहना है कि उनके डिपो में 110 बसे हैं जिनमें से 12 बसें वोल्वो है और बाकी आम बसे हैं| जिसमें से वोल्वो बसों की इंश्योरेंस है और बाकी की बस से बिना इंश्योरेंस के हैं, जो सड़कों पर दौड़ रही हैं जबकि सभी बसों की इंश्योरेंस होनी चाहिए| उन्होंने कहा कि इसके अलावा और भी बहुत सी खामियां रोडवेज में है जिन के लिए उन्हें लगातार संघर्ष करना पड़ता है| 
    माहिर वकील नरिंदर सिंह के मुताबिक मोटर व्हीकल एक्ट में यह स्पष्ट है कि हर वह गाड़ी जो सड़क पर चल रही है उस की इंश्योरेंस होनी अनिवार्य है| चाहे वह स्कूटर, मोटरसाइकिल, कार, बस, ट्रक या कोई भी वाहन हो उन्होंने कहा कि अगर पंजाब सरकार ने रोडवेज विभाग में  कोई फंड जनरेट करके रोडवेज की बसों को छूट दी है, तो यह अलग बात है पर सड़क पर चलने वाली हर गाड़ी की इंश्योरेंस होनी बहुत जरूरी है क्योंकि यह मामला लोगों की जिंदगियों के साथ जुड़ा हुआ है| 
      जालंधर रोडवेज डिपो के जनरल मैनेजर बलविंदर सिंह ने कहा कि उनके जालंधर एक डिपो में 110 और जालंधर दो डिपो में भी 110 बसे हैं| जालंधर एक डिपो में 110 बसों में से 12 बसें वोल्वो है, जिनकी इंश्योरेंस है और बाकी बसों के लिए विभाग की और से मोटर ट्रांसपोर्ट रिजर्व फंड जनरेट किया गया है| जिसमें से इंश्योरेंस का मुआवजा  दिया जाता है और इस फंड के लिए  रोडवेज की बसों के 20 पैसे और पनबस  बसों के  40 पैसे किलोमीटर के हिसाब से  काटे जाते हैं| अगर कोई मानयोग अदालत की ओर से मुआवजा मांगता है तो उसे उसी फंड में से मुआवजा दिया जाता है और पंजाब सरकार ने सरकारी बसों को इंश्योरेंस के मामले में छूट दी हुई है | 
       पंजाब रोडवेज की बसों की एक तो हालत खस्ता है और ऊपर से इंश्योरेंस भी नहीं है| यह सुनकर शायद ही किसी वयक्ति का दिल बैठ कर सफर करने को करे | पर इनकी इंश्योरेंस ना होने के बावजूद भी अगर कोई दुर्घटना होती है तो उसे रोडवेज विभाग की ओर से मुआवजा मिल जाता है| माहिर वकील मुताबिक इंश्योरेंस के बिना सडको पर नहीं दौड़ सकती क्योकि कानून सब के लिए बराबर है| अब देखना यह है की ट्रांसपोर्ट विभाग इस पर क्या रुख लेता है| 

Feb 15 2020 11:14AM
punjab roadways
Source: punjab e news

Crime News

Leave a comment