Breaking News

पंजाब में केंद्र के कानूनों को रद्द करने के लिए तुरंत अध्यादेश जारी करें : सुखबीर बादल

anti farmers act sukhbir badal

पंजाब में केंद्र के कानूनों को रद्द करने के लिए तुरंत अध्यादेश जारी करें : सुखबीर बादल

Punjab E News :-   शिरोमणी अकाली दल के अध्यक्ष सुखबीर सिंह बादल ने आज यहां कहा कि अगर पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह  के किसानों के संघर्ष को हिसंक मोड़ देने की बात करते हैं जबकि वास्तव में आंदोलन बेहद शांतिपूर्ण चल रहा है यह वास्तव में इसे कमजोर करने की चाल है।

         बादल ने कहा कि ये शब्द डराने और किसानों को बदनाम करने के लिए हैं। लेकिन अगर वह अपनी चिंताओं के बारे में ईमानदार हैं, तो वह तुरंत अध्यादेश जारी क्यों नही करते हैं। राज्य के लिए केंद्र के नए अधिनियमों को रोकने के लिए पूरे राज्य को प्रमुख मंडी (कृषि मंडी) की घोषणा क्यों नही करते हैं। हम इसके लिए इतने लंबे समय से मंाग कर रहे हैं लेकिन वह सिर्फ इस मुददे से बच रहे हैं।

          बादल ने भाजपा की पंजाब इकाई और सभी राजनीतिक दलों और संगठनों से किसानों को बचाने के लिए एकजुट होकर सांझा मंच पर आने की अपील की है।

       उन्होने कहा कि  भले ही मुख्यमंत्री ने यह कहा है लेकिन उन्हे किसी भी अप्रिय घटना को रोकने के लिए पहले ही कार्रवाई करते हुए गंभीरता दिखानी चाहिए।  राज्य सरकार के लिए यह सबसे अच्छा तरीका है कि ताकि किसानों को नए कानूनों से बचाया जा और इस प्रकार पंजाब को उस उथल-पुथल से बचाया जा सके जो आपको आशंका है। यह विषय राज्य सरकार के अधिकार क्षेत्र में आता है और आपकी अध्यक्षता वाली कांग्रेस सरकार को इस अध्यादेश को जारी करने में कोई समय बर्बाद नही करना चाहिए। वास्तव में, मैं हैरान हूं कि आप इस बारे में बात करते रहते हैं लेकिन वास्तव में इस दिशा में आगे कदम नही उठा रहे हैं, इसमें इतना समय क्यों लग रहा है? सरदार बादल ने मुख्यमंत्री से कहा कि आपको केवल एडवोकेट जनरल को बुलाना होगा और अध्यादेश का मसौदा तैयार करना होगा और इसे जारी करना होगा।

          बादल ने कहा कि पंजाब को इन अधिनियमों के खिलाफ बचाने का अध्यादेश कैप्टन अमरिंदर सिंह की अपनी आशंकाओं के मद्देनजर अति आवश्यकता है कि पंजाब में केंद्र के अधिनियमों के अवरूद्ध  पंजाब में हिंसा हो सकती है।‘ आप  इसे अपने राज्य के लोगों के प्रति विशेष रूप से राज्य में कानून और व्यवस्था की स्थिति पर नए घटनाक्रम कें प्रभाव के अपने आकलन के बाद सवैंधानिक कर्तव्य समझना चाहिए।

            इससे पहले किसानों और पार्टी कार्यकर्ताओं की विशाल जनसभा को संबोधित करते हुए गुरदासपुर और अमृतसर साहिब में सरदार बादल ने मुख्यमंत्री से अपील की कि वह 2017 में  सरकार द्वारा बनाए गए और लागू किए गए एपीएमसी एक्ट को निरस्त करने के लिए पंजाब विधानसभा का सत्र तुरंत बुलाएं, क्योंकि राज्य अधिनियम के प्रावधान भारत सरकार द्वारा लाए गए नए अधिनियमों के बिल्कूल समान है। सरदार बादल ने कहा कि उनकी पार्टी कैप्टन अमरिंदर सिंह के ऐसे किसी भी कदम का समर्थन करेगी। उन्होने कहा कि कांग्रेस सरकार द्वारा तीन साल पहले अधिनियम एपीएमसी में पूरे राज्य में निजी मंडियां खोलने और राज्य में कही भी प्राईवेट कॉर्पोरेट शार्क के लिए किसानों की फसलों की खरीद फरोख्त के लिए प्रावधान है। राज्य अधिनियम के ये प्रावधान पंजाब में लागू रहेंगे भले ही मोदी सरकार ने जनता के दबाव में अपने ही अधिनियमों को निरस्त करने का फैसला किया हो। इसीलिए यह जरूरी है कि पंजाब में कांग्रेस सरकार अपने घोषणा पत्र के वादों को पूरा करने के रूप में उसके द्वारा पेश किए गए राज्य अधिनियमों के प्रावधानों को निरस्त करे। बादल ने कहा कि हैरानी की बात है कि यह किसान विरोधी प्रावधान अमरिंदर सिंह सरकार द्वारा पूरा किया एकमात्र वादा है।

       अकाली दल अध्यक्ष ने किसानों के हितों की रक्षा के लिए एकजुट संघर्ष करने की जरूरत पर भी जोर दिया और इस दिशा में पूरी ईमानदारी से पालन करने को लेकर प्रतिबद्धता दोहराई। उन्होने कहा कि जब तक कृषि अर्थव्यवस्था को बढ़ावा नही मिलेगा तब तक देश की अर्थव्यवस्था उबर नही सकती। उन्होने कहा कि ‘ दुर्भाग्य से केंद्र के नए कानून के साथ साथ पंजाब में अमरिंदर सरकार द्वारा पारित कानूनों ने किसानों के अस्तित्व के भविष्य को लेकर खतरनाक अनिश्चितता पैदा कर दी है। अकाली दल मूक दर्शक बनकर नही देख सकता जबकि देश में किसानों, विशेषकर पंजाब में घातक चोट पहुंचाई जा रही है।


Sep 28 2020 9:25PM
anti farmers act sukhbir badal
Source: Punjab E News

Crime News

Leave a comment





ਮਾਲ ਗੱਡੀਆਂ ਬੰਦ ਹੋਣ ਨਾਲ ਯੂਰੀਆ ਤੇ ਡੀ.ਏ.ਪੀ.ਖਾਦ ਦੀ ਸਪਲਾਈ ਰੁਕੀ ਕਿਸਾਨ ਪ੍ਰਭਾਵਿਤ, ਜਲੰਧਰ 'ਚ 1.70 ਲੱਖ ਹੈਕਟੇਅਰ ਕਣਕ ਅਤੇ 56 ਹਜ਼ਾਰ ਏਕਟ ਆਲੂ ਦੀ ਫ਼ਸਲ ਲਈ ਯੂਰੀਆ ਅਤੇ ਡੀ.ਏ.ਪੀ.ਖਾਦ ਬਹੁਤ ਜਰੂਰੀ --- ਦੁਸ਼ਹਿਰੇ ਮੌਕੇ ਪੰਜਾਬ ਯੂਥ ਕਾਂਗਰਸ ਫੁਕੇਗੀ ਮੋਦੀ ਰਾਵਣ ਦਾ ਪੁਤਲਾ --- 11 ਕੇ.ਵੀ. ਉਵਰਲੋਡਿਡ ਏ.ਪੀ. ਫੀਡਰਾਂ ਦਾ ਉਦਘਾਟਨ --- ਵਧੀਕ ਡਿਪਟੀ ਕਮਿਸ਼ਨਰ ਨੇ ਸਿਹਤ ਟੀਮਾਂ ਨੂੰ ਅਵੇਸਲੇ ਨਾ ਹੋਣ ਅਤੇ ਕੋਵਿ-19 ਸਬੰਧੀ ਟੈਸਟ ਜਾਰੀ ਰੱਖਣ ਦੀਆਂ ਹਦਾਇਤਾ, ਅਧਿਕਾਰੀਆਂ ਨੂੰ ਕੋਵਿਡ-19 ਸਬੰਧੀ ਦੂਜੀ ਲਹਿਰ ਦਾ ਪੂਰੀ ਸਮਰੱਥਾ ਨਾਲ ਮੁਕਾਬਲਾ ਕਰਨ ਲਈ ਸਥਿਤੀ 'ਤੇ ਬਾਜ਼ ਅੱਖ ਰੱਖਣ ਦੀਆਂ ਹਦਾਇਤਾਂ --- ਬੀ ਜੀ ਪੇ ਦੇ ਸਾਪਲਾਂ ਆਪਣੀ ਗੁਆਚੀ ਸ਼ਾਖ ਬਹਾਲ ਕਰਾਉਣ ਲਈ ਸੁਰਖੀਆਂ ਵਟੋਰ ਰਹੇ --- ਦਿੱਲੀ-ਕਟੜਾ ਐਕਸਪ੍ਰੈਸ ਵੇ: ਸ਼ਾਸਨ ਵਲੋਂ ਨਕੋਦਰ,ਫਿਲੌਰ ਅਤੇ ਜਲੰਧਰ-2 ਸਬ ਡਵੀਜ਼ਨਾਂ 'ਚ 1485 ਏਕੜ ਜ਼ਮੀਨ ਐਕੁਆਇਰ ਕਰਨ ਲਈ 3-ਡੀ ਨੋਟੀਫਿਕੇਸ਼ਨ ਜਾਰੀ