कैप्टन अमरिन्दर सिंह द्वारा केंद्र सरकार से बाढ़ प्रभावित राज्यों की सूची में पंजाब को भी शामिल करने की मांग

flood situation

कैप्टन अमरिन्दर सिंह द्वारा केंद्र सरकार से बाढ़ प्रभावित राज्यों की सूची में पंजाब को भी शामिल करने की मांग

Punjab E News :- पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिन्दर सिंह ने अंतर-मंत्रालयीय केंद्रीय टीम (आई.एम.सी.टी.) द्वारा बाढ़ की स्थिति का मौके पर ही मुल्यांकन करने के लिए चिन्हित किये राज्यों में पंजाब को भी तुरंत शामिल करने की माँग की है।

केंद्र सरकार ने 11 राज्यों की सूची तैयार की है जहाँ केंद्रीय टीम द्वारा बाढ़ से हुए नुक्सान का जायज़ा लिया जाना है परन्तु इस सूची में पंजाब का कहीं भी जि़क्र नहीं किया गया है जबकि राज्य में मूसलाधार बारिश पडऩे से कई इलाकों में भारी बाढ़ आई हुई है।
        मुख्यमंत्री ने पंजाब को शामिल न करने पर हैरानी ज़ाहिर करते हुए केंद्रीय गृह मंत्री को तुरंत इस सूची को दुरुस्त करने की अपील की है।
        कैप्टन अमरिन्दर सिंह ने ट्वीट किया,‘‘विभिन्न राज्यों के बाढ़ प्रभावित इलाकों में नुक्सान का मुल्यांकन करने के लिए गठित की गई कमेटी द्वारा राज्यों के किये जाने वाले दौरों की सूची में से पंजाब को बाहर रखने पर हैरानी हुई है। गृह मंत्री अमित शाह जी, आपसे अपील करता हूँ कि आप पंजाब में बाढ़ से हुए भारी नुक्सान का अनुमान लगाने के लिए केंद्रीय टीम को राज्य का दौरा करने के लिए हिदायत जारी करें।’’
बीते 19 अगस्त को एक उच्च स्तरीय कमेटी की मीटिंग के दौरान लिए फ़ैसले के संदर्भ में केंद्रीय गृह मंत्रालय द्वारा अंतर-मंत्रालयीय केंद्रीय टीम का गठन किया गया है। इससे पहले केंद्र सरकार की ओर से जायज़ा लेने के लिए प्रभावित राज्यों को मैमोरेंडम सौंपने के लिए प्रतीक्षा करनी पड़ती थी जबकि इस कमेटी ने यह प्रथा अब ख़त्म कर दी है।
इस केंद्रीय टीम को बाढ़ प्रभावित राज्यों मेघालय, असम, त्रिपुरा, बिहार, उत्तराखंड, हिमाचल प्रदेश, गुजरात, राजस्थान, महाराष्ट्र, कर्नाटक और केरल का दौरा करने के लिए कहा गया है। यह कमेटी इन बाढग़्रस्त राज्यों को सहायता मुहैया करवाने के लिए केंद्र सरकार को अंतिम सिफारशें करेगी।
        कैप्टन अमरिन्दर सिंह ने यह भी बताया कि उन्होंने पंजाब में बाढ़ से हुए नुक्सान की भरपाई के लिए प्रधानमंत्री को पत्र लिखकर 1000 करोड़ रुपए के विशेष बाढ़ राहत पैकेज की माँग पहले ही की है। प्रारंभिक अनुमानों के मुताबिक राज्य को बाढ़ से लगभग 1700 करोड़ रुपए का नुक्सान पहुँचा है।
        मुख्यमंत्री ने ख़ुद भी प्रभावित इलाकों का दौरा करके खड़ी फसलों, घरों, सरकारी संपत्तियों और पशुधन को पहुँचे नुक्सान की ज़मीनी स्थिति का जायज़ा लिया। मुख्यमंत्री ने प्रधानमंत्री से अपील की कि मौजूदा फ़सलीय सीजन के दौरान बाढ़ प्रभावित गाँवों के किसानों द्वारा बैंकों /वित्तीय संस्थाओं से लिए फ़सलीय ऋणों को माफ करने के लिए वह सम्बन्धित अथॉरिटी को हिदायतें जारी करें।
        शनिवार को कैप्टन अमरिन्दर सिंह ने ट्वीट करके पंजाब में बाढ़ प्रभावित लोगों की मदद के लिए पंजाब सरकार के कंधे के साथ कंधा मिलाकर साथ देने की अपील की है। उन्होंने कहा कि सहायता करने वाले लोग पंजाब स्टेट कोऑपरेटिव बैंक के खाता नं. 001934001000589 और  IFSC: UTIB0PSCB01 के द्वारा अपना योगदान दे सकते हैं।
        गौरतलब है कि 1988 के बाद भाखड़ा बांध से सतलुज नदी में पानी छोडऩे के कारण सबसे भयानक बाढ़ आई है जिससे गाँवों के रिहायशी इलाकों में पानी घुसने के अलावा खड़ी फसलों को बड़ा नुक्सान पहुँचा है।

Aug 24 2019 8:38PM
flood situation
Source: Punjab E News

Crime News

Leave a comment