हरसिमरत के इस्तीफे से अकाली दल को मिली मजबूती, प्रचार करने लगे अकाली

harsimrat badal agriculture ordinance

हरसिमरत के इस्तीफे से अकाली दल को मिली मजबूती, प्रचार करने लगे अकाली

Punjab E News :  केंद्र सरकार की तरफ से प्रस्तावित कृषि विधेयकों पर इस्तीफा देने के बाद हरसिमरत कौर बादल (Harsimrat Kaur Badal) की तरफ से केंद्रीय वजारत से इस्तीफा दिए जाने से विरोधी चारों खाने चित हो गए हैं और फिलहाल उनके पास अकाली दल (Akali Dal) के घेराव के लिए कोई वजह नहीं बची। अब दूसरे राजनीतिक दलों को अपना वोटबैंक खिसकने की चिंता सताने लगी हैं। खासकर मालवा क्षेत्र में अपना आधार बढ़ाने में लगी हुई आम आदमी पार्टी को इस इस्तीफे से करारी चोट पहुंची है क्योंकि आप नेताओं की तरफ से लंबे समय से हरसिमरत के इस्तीफे की मांग की जाती रही है।

 

     हरसिमरत के इस्तीफे से अकाली दल को भी काफी मजबूती मिली है क्योंकि केंद्रीय वजारत छोड़ने के बाद किसानों के बीच पार्टी ने एक बार फिर से अपनी पकड़ मजबूत कर ली है। जो लोग पिछले कई दिनों से बादल परिवार की तरफ से कुर्बानी की मांग कर रहे थे, उन्हें अब ये कुर्बानी पच नहीं रही और वह इसे नाकाफी बताने में लगे हुए हैं। मगर हरसिमरत के इस्तीफे पार्टी के लिए दुरगामी नतीजे लाने वाले साबित होंगे क्योंकि इससे किसानो में एक बार फिर से पार्टी की लोकप्रियता बढ़ी है और अब अकाली नेता अपने घरों से बाहर निकलकर इस इस्तीफे को लेकर जमकर प्रचार कर रहे हैं।

 

      अकाली नेता यह भी प्रचार करने में जुटे हुए हैं कि अभी चुनाव को डेढ़ साल का समय पढ़ा हुआ है, इसलिए अकाली दल की तरफ से वोटबैंक की राजनीति न करते हुए सही में किसानों के हित में इतना बड़ा फैसला लिया गया है, जिससे प्रतिद्वंदी राजनीतिक दलों की परेशानी बढ़ गई है। अब सभी दल इस इस्तीफे को नाकाफी बता रहे हैं लेकिन इस इस्तीफे की वजह से राजनीतिक गलियारों में अकाली दल को एक नया जोश मिला है। 


Sep 19 2020 5:01PM
harsimrat badal agriculture ordinance
Source: Punjab E News

Crime News

Leave a comment