Breaking News

प्रधानमंत्री ने काकरापार परमाणु ऊर्जा संयंत्र-3 के वैज्ञानिकों को दी बधाई

nuclear energy

प्रधानमंत्री ने काकरापार परमाणु ऊर्जा संयंत्र-3 के वैज्ञानिकों को दी बधाई

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने काकरापार परमाणु ऊर्जा संयंत्र-3 के ‘सामान्य परिचालन स्थिति में आने (क्रिटिकल)’ के लिए भारतीय परमाणु वैज्ञानिकों को बधाई दी है.

 

प्रधानमंत्री ने एक ट्वीट में कहा, ‘‘काकरापार परमाणु ऊर्जा संयंत्र-3 के सामान्य परिचालन स्थिति में आने के लिए हमारे परमाणु वैज्ञानिकों को बधाई ! स्वदेश में ही डिजाइन किया गया 700 एमडब्‍ल्‍यूई का केएपीपी-3 रिएक्टर ‘मेक इन इंडिया’ का एक गौरवपूर्ण उदाहरण है और इसके साथ ही यह इस तरह की अनगिनत भावी उपलब्धियों में निश्चित तौर पर अग्रणी है.’’

केएपीपी-3 की यह उपलब्धि काफी बड़ी मानी जा रही है. प्लांट के परिचालन योग्य स्थिति में आने के बाद भारत उन देशों की कतार में खड़ा हो गया है, जिनके पास न्यूक्लियर पावर तकनीक है. भारत ने त्रिस्तरीय न्यूक्लियर प्रोग्राम का विकास किया है. इसने क्लोज्ड फ्यूल साइकल पर आधारित एक तीन चरणों वाला परमाणु कार्यक्रम विकसित किया है, जहां एक चरण में इस्तेमाल हुए ईंधन को फिर से प्रोसेस करके अगले चरण के लिए ईंधन बनाया जाता है.

काकरापार परमाणु ऊर्जा संयंत्र गुजरात के सूरत शहर से 80 किलोमीटर दूर ताप्ती नदी के किनारे स्थित है. इस प्लांट में बुधवार को केएपीपी-3 प्लांट को शामिल किया गया है. पूर्णत: भारत में निर्मित 700 एमडब्‍ल्‍यूई वाले इस प्लांट का विकास और ऑपरेशन न्यूक्लियर पावर कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया (एनपीसीआईएल) ने किया है. इस प्लांट में 220 एमडब्‍ल्‍यूई के दो और स्टेशन केएपीएस-1 और केएपीएस-2 भी हैं. पहले प्लांट की शुरुआत 1993 और दूसरे की शुरुआत 1995 में हुई थी.


Jul 23 2020 9:38AM
nuclear energy
Source:

Crime News

Leave a comment





Talhan Talhan

Latest post

रणवीर सिंह के साथ मुंबई स्थित घर पहुंचीं दीपिका पादुकोण, 26 सितंबर को NCB करेगी पूछताछ --- किसान विधयेक के विरोध में रेल रोको आंदोलन शुरू, पंजाब में राज्यव्यापी विरोध प्रदर्शन की घोषणा --- कृषि मंत्री नरेन्द्र तोमर को पंजाब कांग्रेस का 2017 का मैनीफैस्टो अच्छी तरह पढऩे के लिए कहा जो न्यूनतम समर्थन मूल्य के साथ छेड़छाड़ किए बिना ए.पी.एम.सी. एक्ट के नवीकरण की बात करता है --- राज्य के 9355 गांवों और शहरों में साप्ताहिक मुहिम के अंतर्गत करवाए गए जागरूकता प्रोग्राम यूथ क्लबों, एन.एस.एस. इकाईयों और रैड्ड रिबन क्लबों ने दिया योगदान --- कांग्रेस किसान विरोधी कानूनों को रद्द करवाने के लिए हर स्तर पर लड़ाई लड़ेगी: जाखड़ --- बिलों के साथ किसान, आढ़ती, मजदूर और मंडीकरण ढांचा तबाह हो जाएगा, तथाकथित सुधारों के नाम पर पंजाब की किसानी के साथ केंद्र ने किया द्रोह : राणा सोढी