मिल्कफैड की तरफ से दूध के खरीद भाव में 20 रुपए प्रति किलो फैट के हिसाब से बढ़ोतरी - हरपाल सिंह चीमा

Milkfad increased milk procurement

मिल्कफैड की तरफ से दूध के खरीद भाव में 20 रुपए प्रति किलो फैट के हिसाब से बढ़ोतरी - हरपाल सिंह चीमा

ढाई महीने में चौथी बार बढ़ाया भाव ; कुल 70 रुपए प्रति किलो फैट की वृद्धि

दूध उत्पादकों की वित्तीय सहायता हेतु बढ़ाई दूध की खरीद कीमत - सहकारिता मंत्री 

Punjab E News:-  पंजाब में डेयरी धंधे से जुड़े दूध उत्पादकों को लगातार बढ़ रही पशु ख़ुराक की कीमतों और अन्य लागतों में हो रही वृद्धि से निपटे के लिए मिल्कफैड की तरफ से 21 मई, 2022 से दूध के खरीद भाव में 20 रुपए प्रति किलो फैट के हिसाब से बढ़ौतरी कर दी गयी है। इस फ़ैसले से गाय के दूध पर तकरीबन एक रुपए प्रति किलो और भैंस के दूध पर 1.40 रुपए प्रति किलो का विस्तार होगा। 

      सहकारिता मंत्री हरपाल सिंह चीमा ने बताया कि आने वाले समय में दूध उत्पादकों और उपभोक्ताओं के हितों के लिए और भी ठोस प्रयास किये जाएंगे। उन्होंने कहा कि मिल्कफैड की तरफ से दूध उत्पादकों को हमेशा दूध की ऊँची खरीद कीमतें दी जाती रही हैं, ख़ास कर कोविड महामारी के समय दौरान जब प्राईवेट खरीददारों ने दूध ख़रीदना बंद कर दिया था और दूध के भाव घटा दिए थे तो मिल्कफैड ने अपने सीमित साधनों के बावजूद भी दूध उत्पादकों को वाजिब दूध खरीद रेट दिए।

     सहकारिता मंत्री ने समूह दूध उत्पादकों से अपील की कि गर्मी के इस मौके वेरका की सभाओं में अधिक से बढ़ दूध डाल कर इनको मज़बूत किया जाये जिससे वेरका को अधिक से अधिक दूध मिल सके और अधिक लाभ हो जिससे दूध उत्पादकों की आर्थिक हालत को और मज़बूत किया जा सके।

      मिल्कफैड के मैनेजिंग डायरैक्टर कमलदीप सिंह संघा ने बताया कि मिल्कफैड पंजाब की तरफ से पहले भी 1मार्च, 2022 को 20 रुपए प्रति किलो फैट, 1अप्रैल, 2022 को 20 रुपए प्रति किलो ज़ख़्म और 21 अप्रैल, 2022 को दूध की खरीद कीमतों में 10 रुपए प्रति किलो फैट का विस्तार किया था। अब बढ़ाए 20 रुपए के हिसाब से करीब ढाई महीने में ही कुल 70 रुपए प्रति किलो फैट का विस्तार किया जा चुका है।

      उन्होंने बताया कि दूध उत्पादकों से ख़रीदे गए उत्तम गुणवत्ता के दूध को अलग-अलग दूध और दूध उत्पादों में बदला जाता है और उपभोक्ताओं की ज़रूरत के मुताबिक बाज़ार में बेचा जाता है। इस तरह पैदा हुए राजस्व का तकरीबन 80 प्रतिशत कीमत और अलग-अलग सेवाओं, सब्सिडी आदि के रूप में दूध उत्पादकों को वापस कर दिया जाता है। इसके अलावा वेरका अपने उपभोक्ताओं को लगातार उत्तम गुणवत्ता के दूध पदार्थ मुहैया कराने के लिए भी वचनबद्ध है।


May 21 2022 4:40PM
Milkfad increased milk procurement
Source: Punjab E News

Latest post

Political News

Crime News