2003 में बंद की पेंशन को बहाल करे प्रदेश सरकार

Pension regarding news

2003 में बंद की पेंशन को बहाल करे प्रदेश सरकार

2003 में बंद की पेंशन को बहाल करें प्रदेश सरकार-B.K

Punjab E News(Vinod Mahant)Kullu

विधुत बोर्ड में चल रही कर्मचारियों की कमी को किया जाए पूरा..........................

विधुत पेंशनर वेल्फेयर एसोसिएशन की राज्य स्तरीय बैठक शाड़ावाई में संपन्न........................

प्रदेशाध्यक्ष ने कहा विधुत बोर्ड को विघटित न करें सरकार..........................

वर्ष 2003 में बंद की गई पेंशन को  प्रदेश सरकार को बहाल कर देना चाहिए और विधुत बोर्ड में चल रही कर्मचारियों की कमी को शीघ्र पूरा  किया जाना चाहिए।यह बात विधुत पेंशनर वेल्फेयर एसोसिएशन के राज्य अध्यक्ष बीके सूद ने राज्य स्तरीय बैठक को संबोधित करते हुए कही।जिला कुल्लू के शाड़ावाई में इस बैठक का भव्य आयोजन किया गया। इस अवसर पर प्रदेश अध्यक्ष बीके शर्मा ने कहा कि हम तो पेंशन धारक हैं लेकिन वर्ष 2003 में सरकार ने पेंशन बंद करने का  जो निर्णय लिया वोह तर्क संगत नहीं है। उन्होंने कहा कि एक पद पर जो रहे हैं वोह पेंशन ले रहे हैं और उसी पद पर हमारी सेवानिवृति के बाद कोई आ रहा उसे पेंशन नहीं यह कितना तर्क संगत है। इसलिए सरकार को पुरानी पेंशन बहाल करनी चाहिए।उन्होंने कहा कि पूर्व में रहे कर्मचारियों व अधिकारियों ने विधुत बोर्ड का जो मजबूत ढांचा खड़ा किया है वह आज कुशल कर्मचारियों की कमी के कारण लड़खड़ा रहा है।उन्होंने कहा कि पूर्व के लोगों ने चाहे दुर्गम क्षेत्र में विधुतीकरण,विधुत उत्पादन,संचार एवं विधुत आपूर्ति इत्यादि में कड़ी मेहनत से मजबूत ढांचा तैयार किया है लेकिन आज कर्मचारियों की बजह से चरमरा रहा है। इसलिए स्टाफ की कमी को नई भर्ती करके शीघ्र पूरा करना चाहिए। उन्होंने कहा लंबे समय से बोर्ड प्रबंधन से मांग की जा रही है कि चुने हुए संघ के लोगों से समस्याओं के बारे वार्ता करें लेकिन प्रबंधन पेंशनरों के प्रति जहरुक नहीं। उन्होंने कहा कि लंबे समय से लेकर विधुत भत्ते की मांग की जा रही है वह भी पूरी नहीं की जा रही है जबकि परिवहन निगम में कर्मचारियों को हर सुविधा मिल रही है। उन्होंने कहा कि 65-70 व 75 वर्ष आयु पूरी करने पर 5-10-15 प्रतिशत की पेंशन को मूल पेंशन के साथ समायोजित किया जाना चाहिए। उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार बार-बार बोर्ड के विघटन का प्रयास कर रही है जो निंदनीय हैं और सरकार को ऐसा नहीं करना चाहिए।जहां भी बोर्ड का विघटन हुआ है वे पूर्णतय असफल है। उन्होंने कहा कि पूर्व सरकार के दौरान सीसीएस रूल में अध्यादेश चुपके से लाया जिससे अवरोध खड़ा हो गया है। जिसका हम पुरजोर विरोध करते हैं। उन्होंने कहा कि यह सीसीएस रूल स्वतःही लागू रहने चाहिए और अध्यादेश रद्द किया जाए।इससे पहले कुल्लू यूनिट ने राज्य स्तरीय पदाधिकारियों का भव्य स्वागत किया। कुल्लू के अध्यक्ष एसएल क्रोफा ने कुल्वी परंपरा के साथ प्रदेश से आए हुए सभी मेहमानों को टोपी मफलर भेंट किए। बैठक में प्रदेश के सभी यूनिटों के अध्यक्ष,उपाध्यक्ष व महासचिव उपस्थित रहे।


Mar 15 2020 7:43PM
Pension regarding news
Source: Punjab e news

Leave a comment