किसानों पर अत्याचार करना बंद करे सत्तारूढ़ कांग्रेस: कुलतार सिंह संधवां

cancellation of FIR lodged against farmers

किसानों पर अत्याचार करना बंद करे सत्तारूढ़ कांग्रेस: कुलतार सिंह संधवां

कहा - कैप्टन अमरिंदर सिंह तथा मनोहर लाल खट्टर में  कोई फर्क नहीं

Punjab E News :-  आम आदमी पार्टी (आप) पंजाब ने मोगा में किसानों पर अंधाधुंध अत्याचार करने को लेकर सत्तारूढ़ कांग्रेस से सवाल किया है कि किसानों पर लाठियां बरसाने  में पंजाब की कैप्टन तथा हरियाणा की मनोहर लाल खट्टर सरकार में क्या फर्क है?

    आम आदमी पार्टी ने मोगा लाठीचार्ज की कड़ी निंदा करते हुए 200 से अधिक किसानों के खिलाफ जारी की गई एफआईआर को तत्काल रद्द करने की मांग की है। उन्होंने मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह को किसानों के प्रति प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की तरह उनकी नकारात्मक सोच को बदलने की सलाह भी दी।

      आप विधायक और किसान विंग पंजाब के अध्यक्ष कुलतार सिंह संधवां ने कहा कि ‘सुखबीर सिंह बादल से काले कृषि कानूनों के बारे सवाल पूछने के लिए मोगा  में शांतिपूर्ण प्रदर्शन कर रहे किसानों पर लाठियां और पानी की बौछारें डालकर कैप्टन की पुलिस ने लोकतंत्र की हत्या तथा भारतीय संविधान का उल्लंघन किया है।’ 

     संधवां ने कहा कि मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह अपने आका नरेंद्र मोदी के नक्शेकदम पर चल रहे हैं और बादल परिवार के साथ अपने गुप्त समझौते के कारण किसानों पर अत्याचार कर रहे हैं जिसे पंजाब की जनता कभी बर्दाश्त नहीं करेगी।

     कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष नवजोत सिंह सिद्धू की आलोचना करते हुए कुलतार सिंह संधवां ने कहा कि कांग्रेस सरकार की पुलिस आए दिन किसानों पर अत्याचार कर रही है लेकिन नवजोत सिद्धू  चुप्पी साधे हुए हैं। उन्होंने कहा कि नवजोत सिद्धू मंच पर तो किसानों के हक की बात करते हैं लेकिन पंजाब पुलिस द्वारा किसानों पर बरसाई गई लाठियां और दर्ज मामलों के खिलाफ कभी बात नहीं करते।

      अकाली दल के अध्यक्ष और पूर्व उपमुख्यमंत्री सुखबीर सिंह बादल पर टिप्पणी करते हुए कुलतार सिंह संधवां ने कहा कि ''सुखबीर सिंह बादल को भागने की बजाय किसानों के सवालों का जवाब देना चाहिए,क्योंकि बादल परिवार हमेशा से ही खुद को किसानों का हितैषी बताता रहा है। अब जब किसान अपने हितैषी नेता से कृषि कानूनों को लेकर सवाल पूछ रहें हैं तो यह नेता किसानोंं का सामने करने से भाग रहा है।’’

     उन्होंने कहा कि कुछ दिन पहले सुखबीर बादल ने विरोध कर रहे किसानों को 'शरारती तत्व' करार दिया था और आज कैप्टन ने सुखबीर के कहने पर किसानों पर लाठीचार्ज करवाया और उनके खिलाफ केस दर्ज किए हैं।

     संधवां ने आरोप लगाया कि किसानों पर लाठियां बरसाने और पानी की बौछार छोडऩे में कांग्रेस, अकाली दल तथा भारतीय जनता पार्टी एक समान हैं,क्योंकि जहां भाजपा,अकाली दल तथा कांग्रेस काले कृषि कानूनों के लिए बराबर की जिम्मेदार है, उसी तरह किसानों पर लाठियां बरसाने और उन पर मामले दर्ज करने के लिए ये सत्ताधारी भी एक समान काम कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि अगर कांग्रेस सरकार के मन में किसानों के प्रति थोड़ी भी  संवेदना होती तो करनाल जैसा अत्याचार मोगा में नहीं होता।


Sep 3 2021 5:03PM
cancellation of FIR lodged against farmers
Source: Punjab E News

Leave a comment