मंडी में बाल विवाह के आंकड़े चौकाने वाले, कहाँ गए पंचायत प्रतिनिधि ओर NGO

child marriage act

मंडी में बाल विवाह के आंकड़े चौकाने वाले, कहाँ गए पंचायत प्रतिनिधि ओर NGO

Punjab E News ( Dimpa, Mandi ) :- मंडी सदर ओर बल्ह विधान सभा क्षेत्रो से बाल विवाह रोकने के 10 मामले सरकारी आंकड़े में सामने आए है जबकि अन्य विधान सभा के आंकड़े नही दर्शाये गए है । यह आंकड़े अपने आप ओर सरकारी तंत्र को भी चौकाने वाले है ऐसा लगता है या तो प्रदेश सरकार बाल विवाह के प्रति लोगो को जागृत करने में आगे नही आ पाई या इन दोनों विधान सभाओं में कुछ लोग आज भी अपनपढता की पीढ़ी के शिकार है जो मेक इन इंडिया की रफ्तार में भी अपनपढता के ही शिकार रह गए । 

     जिला बाल संरक्षण समिति ओर बाल कल्याण की बैठक में बाल विवाह के सरकारी आंकड़े सामने है । जबकि मंडी सदर ओर बल्ह विधान सभा क्षेत्र CM जयराम ठाकुर के जिला क्षेत्र में आते है फिर भी यहां बाल विवाह लोग करवा रहे है ,चाइल्ड लाइन मंडी ने  बच्चो की शादियों को रोकने में अपनी तत्प्रता दिखाई जो सराहनीय है पर यहां प्रश्न भी पैदा होता है कि आज के मोबाइल युग ओर मेक इन इंडिया की रफ्तार में ऐसे बाल विवाह की घटना सामने आए तो वो सबके लिए शर्मसार करने वाली बात है। 
       10 बाल विवाह के ये वो आंकड़े है जो सामने आए है ओर न जाने चोरी छिपे ओर जानकारी न मिल पाने के कारण कुछ बाल विवाह शायद हो भी जाये तो किसी को कानो कान खबर भी न लगे । सरकार ने अब स्त्री अभियान से बाल विवाह को जोड़कर जागृत किये जाने की योजना पर छाप लगा दी है । 
       लकड़े की उम्र 21 ओर लड़की की 18 वर्ष शादी के लिए तय है अगर कोई बाल विवाह करता है तो 2 साल की जेल ओर एक लाख रुपये जुर्माना रखा गया है । अगर बाल विवाह के इस नियम पर भी गौर फ़रमाया जाए तो अभी तक न किसी को जेल हुई है और न ही जुर्माना हुआ है । 
      मंडी सदर ओर बल्ह में जो बाल विवाह के मामले सामने आए वहां इस बात का भी असहास हो रहा है की यहां के स्थानीय पंचायत प्रतिनिधि ओर समाज सेवक भी फेल हुए है और सरकार के बाल विवाह के प्रचार प्रसार की भी सारी पोल खोल रहे है । 
       क्या आज मंडी जिला इतना पिछड़ा हुआ है कि वहां के लोगो को बाल विवाह के नियम तक ही नही मालूम है ? वो भी उस समय जब CM साहब भी मंडी से ही है । ऐसा लगता है कि आज भी मंडी जिले में कुछ लोग अनपढ़ता के शिकार है और सरकार के प्रचार प्रसार ऐसे लोगो तक पहुंच ही नही पाए है । मोबाइल इंटरनेट युग के इस जमाने मे भी मंडी जिले में बाल विवाह की घटनाऐ हो जाये तो इस पर सरकार और प्रशासन को भी सोचना चाहिए कि आज के युग मे ऐसे मामले सामने आए तो कही न कही सरकार / प्रशासन की जानकारियो का अभाव अवश्य है*।

Jul 31 2019 5:46PM
child marriage act
Source: Punjab E News

Leave a comment